सुख-शांति चाहते हैं तो अपनाएं गोमती चक्र के ये आसान उपाय

मनुष्य के जीवन में कई समस्याएं ऐसी भी रहती हैं, जिनका हल समझ पाना उसके लिए बहुत मुश्किल हो जाता है। ऐसी परिस्थिति में सुख-शांति और उन्नति के लिए गोमती चक्र के इन छोटे-छोटे उपायों को अपना सकते हैं। गोमती, नदी में पाया जाने वाला अल्पमोली कैल्शियम व पत्थर मिश्रित होते है। इनके एक तरफ उठी हुई सतह होती है और दूसरी तरफ कुछ चक्र होते हैं। इन चक्रों को लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है।

गोमती चक्रों का निम्न प्रकार से प्रयोग करने से आपकी समस्याओं का हल पाया जा सकता है-

1. यदि गोमती चक्र को लाल सिन्दूर की डिब्बी में रखा जाए तो घर में सुख-शांति बनी रहती है।
2. यदि घर में कोई बार-बार बीमार होता हो या किसी की बीमारी ठीक ही नहीं हो रही हो तो गोमती चक्र को चांदी में पिरोकर रोगी के पलंग पर बाध दे, इससे रोगों का नाश होने लगेगा।
3. व्यापार वृद्धि के लिए दो गोमती चक्र लाल कपड़े में बांधकर उसे दुकान के मुख्य दरवाजे की चौखट पर बांध दे, ऐसा करने से व्यपार में वृद्धि होगी।
4. दीपावली के दिन पांच गोमती चक्र को पूजा में स्थापित करके उनकी पूजा करने से साल भर घर में उन्नति होती रहेगी।
5. तीन गोमती चक्रों का चूरा करके उन्हें घर के बाहर फैला देने से भाग्य सकारात्मक होता है।
6. ग्यारह गोमती चक्रों को लाल पोटली में बांधकर दुकान में रखने से व्यापार में लाभ होता है।

===================================================
|| जय माता दी ||
|| ज्योतिशाचार्या विनीता ||

Advertisements

वास्तु टिप्स : घर-परिवार के झगड़े खत्म करने के 8 आसान उपाय

घर में कई अलग-अलग स्वभाव वाले लोग रहते हैं। ऐसे में कई बार एक-दूसरे से आदतें और विचार मेल नहीं खाते हैं। जिससे अक्सर घर के लोगों में मन-मुटाव और झगड़े होने लगते हैं। इन झगड़ों की वजह से घर में हमेशा ही अशांति और क्लेश का माहौल बना रहता है। वास्तु के कुछ छोटे-छोटे उपायों को अपना कर इन झगड़ों से छुटकारा पाया जा सकता है-

1. यदि घर में अक्सर तनाव की स्थिति बनी रहती है तो सफेद चंदन की बनी कोई भी मूर्ति ऐसे स्थान पर रखें, जहां से सभी सदस्यों की नजर उस पर पड़े। इससे पारिवारिक तनाव खत्म होगा और सदस्यों में आपसी विश्वास बढ़ेगा।

2. यदि घर के पुरुष सदस्यों के बीच तनाव और विवाद की स्थिति रहती हो तो ऐसे घर में कदम्ब के पेड़ की डाली रखनी चाहिए। इससे शांति का वातावरण बनता है

3. घर के अन्य स्थानों की बजाए रसोई घर में बैठकर खाना खाने से घर में राहु का प्रभाव कम होता है और सुख-शांति बनी रहती है।

4. यदि परिवार की महिलाओं में अक्सर अशांति, तनाव और मनमुटाव रहता है तो ऐसे परिवार में सभी महिलाओं को एक साथ लाल रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

5. यदि किसी महिला की वजह से घर में अशांति रहती हो तो शुक्ल पक्ष के सोमवार को चन्द्रमणि की चांदी की अंगूठी बनवाकर उस महिला को दाहिने हाथ की अनामिका उंगली (छोटी उंगली के पास वाली उंगली) में पहनानी चाहिए।

6. जिस घर में बिना कारण के तनाव और अशांति का वातावरण बनता हो, उस घर के लोगों को गुरुवार को बाल और दाढ़ी-मूंछ नहीं कटवाना चाहिए।

7. हर महीने में घर के सदस्यों की संख्या और घर में आए सभी अतिथियों की संख्या के बराबर मीठी रोटियां बनाकर जानवरों को खिलाना चाहिए। इससे घर में बीमारी, झगड़े और फिजूल खर्च से छुटकारा मिलेगा।

8. पूर्णिमा को पूरे घर में गंगाजल छिड़कने से शांति और प्रेम बना रहता है।
==================================================
|| जय माता दी ||
|| ज्योतिशाचार्या विनीता ||
===================================================