15 आसान उपाय: मेनगेट पर बनाएं स्वस्तिक, बढ़ेगी समृद्धि

15 आसान उपाय: मेनगेट पर बनाएं स्वस्तिक, बढ़ेगी समृद्धि

वास्तु शास्त्र में जीवन को सुखी और बेहतर बनाने के लिए उपाय बताए गए हैं। यदि उन उपायों को सही तरीके और पूरी आस्था के साथ अपनाए जाएं तोजीवन की कई परेशानियां दूर हो सकती हैं। जानिए कुछ टिप्स, जिनसे घर में बढ़ती है

पॉजिटिव एनर्जी…
1. घर में वास्तुदोष कम करने और शांति का वातावरण बनाने के लिए घर के मेनगेट पर सिन्दूर से स्वस्तिक बनाएं, जो कि नौ अंगुल लम्बा और नौ अंगुल चौड़ा हो।

2. हमेशा लक्ष्मी की कृपा बनाए रखने के लिए घर की अलमारी या तिजोरी में हल्दी की गांठ, दाल चीनी की छाल रखनी चाहिए।

3. घर और ऑफिस में एक्वेरियम रखने से धन और भाग्य में वृद्धि होती है।

4. घर में तांबे का पिरामिड रखने और नौ दिन तक अखण्ड भगवन कीर्तन करने से वास्तु दोष कम होता है और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।

5 घर या दुकान में धन-लक्ष्मी हमेशा बनी रहे, इसके लिए अपनी तिजोरी में कुबेर यंत्र या श्रीयंत्र रखना चाहिए।

6. घर के मेनगेट पर तुलसी या केले का पौधा लगाने से वास्तुदोष दूर होता है और घर में प्रेम का वातावरण बनता है।

7. घर में सप्ताह में कम से कम एक बार कर्पूर जलाना चाहिए। उसका धुंआ वास्तुदोष दूर करना है।

8. पिरामिड आकार का मंगल यंत्र घर में लगाने से वास्तुदोष का नाश होता है और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।

9. घर या ऑफिस में ताजे फूल रखने से सुख-समृद्धि मिलती है।
10. दुकान या ऑफिस के ईशान कोण (उत्तर-पूर्व कोने) में मंदिर बनाना चाहिए, इससे देवी-देवताओं की कृपा बनी रहती है।

11. लक्ष्मी प्राप्ति के लिए मेनगेट की दहलीज में ठोस बनवानी चाहिए और दहलीज के नीचे का स्थान खाली नहीं छोड़ना चाहिए।

12. चांदी का तार घर के मुख्य दरवाजे के नीचे दबाने से वास्तुदोषों का निवारण होता है।

13. घर के दक्षिण-पूर्व कोने में पक्षियों के नहाने के लिए पानी भरा हुआ कटोरा रखना चाहिए, इससे परिवार के लोगों के आय के स्त्रोत बढ़ते हैं।

14. घर के आंगन में मनीप्लांट लगाने से धन-संपत्ति प्राप्त होती है।

15. घर में रखे दक्षिणावर्ती शंख जिससे आपके घर में महालक्ष्मी का आगमन रहेगा और वास्तु दोष को भी कम करेगा |

|| जय माता दी ||
|| ज्योतिषाचार्या विनीता ||

Advertisements

दिल को दमदार बनाता है शंख बजाना

शंख का आध्यात्मिक ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक महत्व भी है। दिल के रोग को इसका वादन पास नहीं फटकने देता है। योगी बाबा शंखनाद बिना रुके आधा घंटे तक लगातार शंख बजा सकते हैं। उन्होंने इसके वादन के अनेक फायदे बताए। इसके वादन के चलते उन्हें राष्ट्रपति से सम्मानित किया जा चुका है। बाबा शंखनाद ने लोगों को बिना रुके करीब 10 मिनट तक शंख का वादन करके लोगों को चकित कर दिया।

उन्होंने बताया कि उन्हें राष्ट्रपति, पूर्व प्रधान मंत्री अटल विकारी वाजपेई, योग गुरू बाबा रामदेव आदि सम्मानित कर चूके हैं। प्रत्येक शुभ कार्य में इसका वादन अच्छा माना जाता है। इससे विजय का उद्घोष होता है। उन्होंने बताया कि जैसे घी और अग्नि के सावेश से वातावरण शुद्ध होता है वैसे ही शंख की ध्वनि से निकलने वाली तरंगें वैक्टीरिया नाशक होती हैं जो वातावरण को शुद्ध करने का काम करती हैं। शंख की खासियत -समुद्र से निकले 14 रत्नों में शंख भी एक रत्न है। -इससे ओम की ध्वनि निकलती है। -भगवान कृष्ण की कलाओं में एक कला है।

-नौ निधियों में शंख भी एक निधि है। -भारतीय संस्कृति की धरोहर भी इसे माना जाता है। दो प्रकार के होते हैं शंख -दक्षिणावर्ती-यह शंख बजाया नहीं जाता है। इसे घर में या पूजा स्थल पर रखा जाता है। यह शांति व लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। -वामवर्ती-यह शंख वादक होता है। इसका वादन किया जाता है। शंख वादन के लाभ -शंखवादन योग क्रिया है। -दिल के रोग में फेफड़ो के चलने से लाभ पहुंचता है। -इससे ध्यान केन्द्रित होता है। -ईश्वर व शुभ कार्य का आहवान होता है। -वादन से सांस की बीमारी नहीं आती। -मंगल ध्वनि का सूचक है। -विजय का परिचायक है।
===================================================
|| जय माता दी ||
|| ज्योतिषाचार्या विनीता ||
==================================================