सुनहरा अवसर ….. अभी कॉल करे दक्षिणावर्ती शंख की फ्रेंचाइजी के लिये || जय माता दी ||

10340006_1547625898891903_6877312865999114430_n

Advertisements

तंत्र क्रियाओं में अनेक वस्तुओं का उपयोग किया जाता है।

तंत्र क्रियाओं में अनेक वस्तुओं का उपयोग किया जाता है। ये वस्तुएं दिखने में
बहुत ही साधारण होती हैं, लेकिन होती बहुत ही चमत्कारी हैं।
इनका उपयोग भी बहुत ही सरल होता है। आज हम आपको तंत्र क्रियाओं में काम आने वाली कुछ ऐसी ही वस्तुओं के बारे में बता रहे हैं, जिनके नाम
आपने सुने होंगे या कई बार देखा भी होगा, लेकिन इनके चमत्कारी उपायों के बारे में आप नहीं जानते। यदि इनका विधि-विधान से सही प्रयोग किया जाए, तो ये साधक की हर मनोकामना पूरी कर सकती है। ये चमत्कारी चीजें इस प्रकार हैं |

====================================================
दक्षिणावर्ती शंख

तंत्र शास्त्र में दक्षिणावर्ती शंख का विशेष महत्व है। इस शंख को विधि-विधान पूर्वक घर में रखने से कई प्रकार की बाधाएं शांत हो जाती है और धन
की भी कमी नहीं होती।
दक्षिणावर्ती शंख के अनेक लाभ हैं, लेकिन इसे घर में रखने से पहले इसका शुद्धिकरण अवश्य करना चाहिए।

इस विधि से करें शुद्धिकरण
लाल कपड़े के ऊपर दक्षिणावर्ती शंख को रखकर इसमें गंगाजल
भरें और कुश के आसन पर बैठकर इस मंत्र का जाप करें-
ऊं श्री लक्ष्मी सहोदराय नम:
इस मंत्र की कम से कम 5 माला जाप करें।

ये हैं दक्षिणावर्ती शंख के उपाय :-
1- दक्षिणावर्ती शंख को अन्न भण्डार में रखने से अन्न, धन भण्डार में रखने से धन, वस्त्र भण्डार में रखने से वस्त्र की कभी कमी नहीं होती।
शयन कक्ष में इसे रखने से शांति का अनुभव होता है।
2- इसमें शुद्ध जल भरकर, व्यक्ति, वस्तु, स्थान पर छिड़कने से दुर्भाग्य,
अभिशाप, तंत्र-मंत्र आदि का प्रभाव समाप्त हो जाता है।
3- किसी भी प्रकार के टोने-टोटके इस शंख के आगे निष्फल हो जाते हैं। दक्षिणावर्ती शंख जहां भी रहता है, वहां धन की कोई कमी नहीं रहती।
4- इसे घर में रखने से सभी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा स्वत: ही समाप्त हो जाती है और घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रसार होता |

===================================================
गोमती चक्र

कुछ तांत्रिक प्रयोगों में एक ऐसे पत्थर का उपयोग किया जाता है, जो दिखने में
साधारण होता है, लेकिन आश्चर्यजनक तरीके से अपना प्रभाव
दिखाता है। उस पत्थर का नाम है गोमती चक्र।
गोमती चक्र कम कीमत वाला एक ऐसा पत्थर है
जो गोमती नदी में मिलता है। इसका तांत्रिक उपयोग
बहुत ही सरल होता है।

ये हैं इसके खास उपाय-
1- यदि बार-बार किसी महिला का गर्भ गिर रहा हो, तो दो गोमती चक्र लाल कपड़े में बांधकर उस स्त्री की कमर में बांध दें। गर्भ गिरने
की संभावना कम हो जाएगी।
2- यदि कोर्ट-कचहरी जाते समय घर के बाहर
गोमती चक्र रखकर उस पर दाहिना पांव रखकर जाएं, तो उस दिन
कोर्ट-कचहरी में सफलता प्राप्त होती है।
3- यदि शत्रु बढ़ गए हों तो जितने अक्षर का शत्रु का नाम है, उतने गोमती चक्र लेकर उस पर शत्रु का नाम लिखकर उन्हें जमीन में गाड़ दें तो शत्रु आपको परेशान नहीं करेंगे।

=================================================
लघु नारियल

लघु नारियल का आकार सामान्य नारियल से थोड़ा छोटा होता है। लघु नारियल
का प्रयोग अनेक टोटकों में किया जाता है, विशेषकर धन-संपत्ति प्राप्ति के टोटकों में।

लघु नारियल के कुछ साधारण प्रयोग इस प्रकार हैं-
1- 11 लघु नारियल को मां लक्ष्मी के चरणों में रखकर
ऊं महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णुपत्नीं च
धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् मंत्र का जप करें।
2 माला जप करने के बाद एक लाल कपड़े में उन लघु नारियलों को लपेट कर
तिजोरी में रख दें व दीपावली के दूसरे दिन किसी नदी या तालाब में विसर्जित कर दें।
ऐसा करने से लक्ष्मी चिरकाल तक घर में निवास करती है।
2- धन, वैभव व समृद्धि पाने के लिए 5 लघु नारियल स्थापित कर, उस पर केसर से तिलक करें और हर नारियल पर तिलक करते समय 27 बार नीचे
लिखे मंत्र का मन ही मन जाप करते रहें-
मंत्र- ऐं ह्लीं श्रीं क्लीं
3- अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में कभी धन-धान्य की कमी न रहे और अन्न का भंडार भरा रहे तो 11 लघु नारियल एक पीले कपड़े में बांधकर रसोई घर के पूर्वी कोने में बांध दें।

===================================================
एकाक्षी नारियल

तंत्र क्रियाओं में नारियल का प्रयोग भी किया जाता है। नारियल कई
प्रकार के होते हैं। उन्हीं में से एक होता है एकाक्षी नारियल। मान्यता के अनुसार ये नारियल साक्षात लक्ष्मी का रूप होता है। इसे घर में रखने से ही कई प्रकार की समस्याएं स्वत: ही दूर हो जाती हैं।

ये हैं इसके खास उपाय-
1- जिस घर में एकाक्षी नारियल की पूजा होती है, उस घर के लोगों पर तांत्रिक
क्रियाओं का प्रभाव नहीं होता है एवं उस परिवार के सदस्यों को मान-सम्मान, प्रतिष्ठा व यश प्राप्त होता है।
2- यदि मुकदमे में विजय प्राप्त करनी हो तो रविवार के दिन एकाक्षी नारियल पर विरोधी का नाम लिख कर, उस पर लाल कनेर का फूल रख दें और जिस दिन न्यायालय जाएं वह फूल साथ ले जाएं। फैसला आपके पक्ष में होगा।
3- वंध्या स्त्री (जिसे संतान न हो रही हो) को ऋतु स्नान के बाद एकाक्षी नारियल को धो कर, उसका पानी पिलाया जाए तो संतान होने की संभावना बढ़
जाती हैं।

===================================================
|| जय माता दी |

|
|| ज्योतिषाचार्या विनीता ||

AstroSpirit's photo.
AstroSpirit's photo.
AstroSpirit's photo.
AstroSpirit's photo.